प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण उत्तर प्रदेश – 2017-18 में बनेंगे 10 लाख मकान

August 21, 2017 | Category: उत्तर प्रदेश Last Modified: August 21, 2017 at 7:25 pm

उत्तर प्रदेश की सरकार प्रधान मंत्री आवास योजना ग्रामीण (PMAY-G) के तहत ग्रामीण इलाकों में 10 लाख घरों का निर्माण और प्रधान मंत्री आवास योजना – शहरी (PMAY-U) के तहत शहरी क्षेत्रों में 2 लाख घरों के निर्माण करने की योजना बना रही है। केंद्र सरकार की इस प्रमुख आवास योजना का मुख्य उद्देश्य पूरे देश में बेघर लोगों के लिए घर प्रदान करना है।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लगभग 48 लाख लोगों के पास रहने के लिए स्थायी निवास नहीं है। इसलिए राज्य सरकार प्रधान मंत्री आवास योजना – ग्रामीण के तहत 2017-18 के भीतर राज्य में कम से कम 10 लाख घरों का निर्माण करके इस समस्या को हल करने की योजना बना रही है।

PMAY केंद्र सरकार की एक महत्वकांक्षी योजना है जिसके तहत देश के गरीब और बेघर लोगों के लिए एक किफायती घर बनाने के लिए कई घटकों के माध्यम से लाभ उपलब्ध कराया जाएगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत धन संबंधी लाभ

राज्य सरकार ने घोषणा की है कि लाभार्थियों को ग्रामीण क्षेत्रों में घरों के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत धन संबंधी सहायता प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा PMAY-G के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में निम्न प्रकार से सब्सिडी की राशि दी जाएगी

– प्रत्येक योग्य लाभार्थी को 1.20 लाख रुपये की धन संबंधी सहायता प्रदान की जाएगी।
– शौचालय के निर्माण के लिए अतिरिक्त 12,000 रुपये दिए जायेंगे।
– लाभार्थियों को 15,700 / – रुपये दिए जायेंगे जो अपने आप घर का निर्माण स्वयं कर रहे हों।

राज्य सरकार ने पूरे राज्य के शहरी क्षेत्रों में 5,129 परिवारों की पहचान की है जो अपने घरों के निर्माण कर रहे हैं उन्हें इस योजना से धन संबंधी सहायता मिलेगी। सरकार द्वारा PMAY-U के तहत शहरी क्षेत्रों में प्रदान की जाने वाली सब्सिडी की राशि नीचे दी गई है
– केंद्र सरकार द्वारा – 1.5 – 2.5 लाख रुपए
– राज्य सरकार द्वारा – 1 लाख रुपए

योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए प्रधान मंत्री आवास योजना की वेबसाइट pmaymis.gov.in या pmayg.nic.in पर जाएं।

Related Content

Comments are closed here.

Disclaimer & Notice: This is not the official website for any government scheme nor associated with any Govt. body. Please do not treat this as official website and do not leave your contact information in the comment below.